maa khali image

काली साधना कैसे करें

Posted on

माँ भद्र काली शमशान काली की सिद्धी
शमशान काली को शमशान की अधिस्तात्री देवी बोला गया है शमशान मैं रहने वाली मा भद्र काली है जो उग्र प्रचंड स्वरूप की है ( Kaali Sadhna )

तो भगवती शमशान काली को सिद्ध करने के लिए साधक को समय समय पर कुछ कार्य करने पड़ते है एकदम से कोई साधक शमशान काली को सिद्धी नहीं कर सकता( Kaali Sadhna )

काली की दीक्षा को पूर्ण करने के लिए साधक को पहले गुरु मंत्र गायत्री मंत्र भगवती की भगवती शमशान कालिका की दक्षिणा काली को सिद्ध करना पड़ता है उससे पहले भगवती के कई स्वरूप है श्यामा काली , गुहा काली , हंस काली , भद्र काली , महा काली , रूद्र काली , शमशान काली, बेताली काली , कंकाली काली तो इस प्रकार अलग अलग स्वरूपों मैं भगवती जो है विद्यमान है ( Kaali Sadhna )

इन सभी स्वरूपों को करने के बाद ही आप माँ शमशान काली की सिद्धी कर सकते है शमशान काली तंत्र मंत्र की अभीस्तात्री देवी है और शमशान में निवास करने वाली प्रमुख देवी है और शमशान मैं रहने वाली २५६ प्रकार की मसानिया है उन सभी की मालिक बोली गयी है उन सभी की सम्राट बोली गयी है और शमशान में निवास करने वाली भगवती बोली गयी है

शमशान की कालिका शमशान की राजकुमारी बोली गयी है और दक्षिणा काली है वो महलो की राजकुमारी बोली गयी है दक्षिणा काली जो है वो राजाओ की देवी बोली गयी है शमशान काली सन्यासियों की देवी बोली गयी है

यह जो श्लोक है या यह जो महामंत्र है यह भगवती शमशान कलिका को जगाने के लिए प्रयोग किया जाता है इसके द्वारा भगवती शमशान काली अपने शमशानों से निकलकर या जलती चिताओ से निकलकर आप के समीप प्रकट हो जाती है( Kaali Sadhna )

यदि आप इस मंत्र का विधिवत तरीके से जाप करते है शमशान मैं नग्न रहकर शव के उपर बैठकर अर्ध रात्री के समय तो आपको भगवती शमशान कलिका की सिद्धी प्राप्त होती है यदि आप योनी मुद्रा स्तिथि मैं बैठी एक स्त्री का भाव करते है ध्यान करते है शव के उपर बैठकर मंदार पुष्पों से यज्ञ करते हुए चिता के अंदर भगवती की सवा लाख की संख्या में इस मंत्र का जाप करते है

तो भगवती शमशान काली आपको सभी कलाओ से निपुण करती है( Kaali Sadhna )
यदि आप मृत शिशु की जिव्हा को काटकर उस जिव्हा पर शमशान कालिका के यंत्र को शमशान के कोयले से लिखकर उस जिव्हा को अपने गले के अंदर धारण करने से या फिर अपने गले के अंदर ताबीज बनाकर और अपने गले के अंदर पहनकर अस्थियो के उपर या शमशान की राख के उपर काले कम्बर्ण के उपर बैठकर दक्षिण दिशा की और अपना मुख करके भगवती का ध्यान करते है तो भगवती शमशान काली आपको 16 कलाओ से निपुण करती है( Kaali Sadhna )

इस प्रकार से भगवती के महामंत्र का प्रयोग किया जाता है जिससे भगवती शमशान काली आपके सभी कार्य संपूर्ण करती है भगवती शमशान काली वाम मार्ग की महा देवी है और पञ्च मनकारी देवी है जो मांस मदिरा मुद्रा मैथुन और मत्स्य तो अलग अलग प्रकार क ये पञ्च मनकार रहते है

इन सभी मंकारो को भगवती अति प्रिय है और भगवती स्वीकार करती है भगवती शमशान काली को प्राप्त करने के लिए इन पञ्च मंकारो का सहारा लेना अनिवार्य है क्युकी भगवती शमशान काली उग्र स्वरूपा है इसलिए गुरु मार्ग दर्शन मैं साधना करना अनिवार्य है साधना करना कोई बड़ी बात नहीं है किन्तु गुरु सानिध्य मैं साधना करना वो अनिवार्य है क्युकी साधना आपको साध्य बनाती है आप उसके साध्य बनेंगे( Kaali Sadhna )

तभी आप उसके दर्शन कर पाएंगे अन्यथा जिस समय वो आपके सामने प्रकट हो गयी उस समय उनकी भयानक छवी देख के ही आपकी मृत्यु हो जाएगी तो अपने ह्रदय को शांत करके ही भगवती शमशान काली को जगाया जाता है शमशान के अंदर कोई भी शमशानी क्रिया करने से पूर्व भगवती शमशान काली को सिद्ध करना अनिवार्य है क्युकी शमशान के अंदर कभी भी आपकी गर्दन कट सकती है

भगवती शमशान काली का एक और ध्यान है जो शव के उपर जिस समय बैठ कर किया जाता है तो उस समय शव का पूजन रहता है
यह मंत्र जो है वो शव के उपर बैठकर किया जाता है इस मंत्र के द्वारा शव पीठ को जगाया जाता है या शव को निकालकर उसी शव का पूजन करते हुए शव के वक् स्थल पर बैठकर शव को शुद्धिकरण के लिए इस मंत्र का प्रयोग किया जाता है

यह जो मंत्र है भगवती शमशान काली की शव पीठ को जाग्रत करने का मंत्र है और जिस समय भगवती का आपको ध्यान करना है वह मंत्र है

यह ध्यान करके भगवती के मंत्र का ध्यान करे यह मंत्र शव पीठ पे बैठकर सवा लाख की संख्या मैं पूरा कर लेते है शमशान के अंदर सवा मॉस के अंदर तो भगवती शमशान काली आपके सभी कार्यो को पूर्ण करेगी

( Kaali Sadhna )

Leave a Reply

Your email address will not be published.