ध्यान क्या होता हैं

Posted on
Meditation क्या है ?

Meditation मतलब ध्यान अतार्थ अपनी सोयी हुयी शक्तियों को जगाना अपने दिमाग का पूरा इस्तेमाल करना विज्ञान के अनुस्सर हम अपने दिमाग का मात्र 2% भाग ही इस्तेमाल करते है

ध्यान का वास्तव मैं उदेश्य कोई लाभ प्राप्त करना नहीं होना चाहिए परन्तु फिर भी इसकी सहयता से इंसान अपने उदेश्य पर अपना ध्यान केन्द्रित करके अपने लक्ष्य की प्राप्ति कर सकता है वैसे अगर देखा जाए तो ध्यान का मुख्य उदेश्य मनुष्य मैं करुणा , प्रेम , धेर्य , उदारता , क्षमा आदि गुणों को बनाये रखना है

साधारण शब्दों मैं कहा जाये तो मान ले हमारे हाथ मैं कुछ राइ के दाने है उन दानो को जमीं पे बिखेर दिया अब उन दानो को हमे समेटना है इसी तरह हमने अपने दिमाग को कई जगह बिखेर दिया अब हमे अपने दिमाग को एक जगह केन्द्रित करना है , तो वो हम केसे करेंगे ?

तो वह माध्यम है ध्यान करना मतलब ध्यान क्या होता हैं
जिसके वजह से हम अपने दिमाग को जो जगह बिखर चूका है उसे उन जगहों से हटाकर उस जगह लगाना जहा हम लगाना चाहते है और वह जगह कुछ भी हो सकती है कुछ लोगो के लिए वह जगह भगवान है , कुछ के लिए पड़ी और कुछ के लिए अपना काम धंधा

ध्यान की मुद्रा मैं रहते हुए अपनी श्वास को सुनना और पक्षियों को ध्वनियो को साफ़ तरीके से सुन पाना ही Meditation है और जब आपको इस मुद्रा मैं रहते हुए किसी अन्य और चीज़ का अनुभव नहीं होता है तो आप सही Meditation मतलब ध्यान की स्तिथि मैं है |

Spiritual गुरु OSHO के अनुसार ध्यान अपने भीतर को साफ़ करने की एक प्रक्रिया है ताजा और युवा होने का प्रयास है
उन्होंने कहा यदि तुम ध्यान से डरते हो मतलब तुम अपने जीवन से डरते हो तुम अवेरे होने से डरते हो और उन्होंने ये भी कहा की यदि तुम बिलकुल प्रतिरोध नहीं करते तो तुम ध्यान को गंभीरतापूर्वक नहीं लेते तुम ध्यान को इमानदारी से नहीं करते हो

Meditation कैसे करे ?

ध्यान करते समय गहरी सास लेकर धीरे धीरे से श्वास छोड़ने की प्रकिया से जहा शारीरिक और मानसिक दोनों लाभ मिलता है वही ध्यान मैं गति मिलती है
आँखें बंद करके पुतलियो को स्थिर करे जीभ को जरा भी ना हिलाए

ध्यान करते समय अपनी साँसों पर ध्यान दे या पंखे की आवाज़ या ॐ शब्द की ध्वनी आदि पर ध्यान दे और एकदम शान्ति की आवाज़ इसी तरह शरीर के अंदर भी आवाज़ जारी है सुनने और बंद आँखों के सामने छाए अँधेरे को देखे और इसी तरह से ध्यान किया जाता है

Meditation योग का ही एक अंग है और योग क्रिया में श्वास को बहुत अधिक महत्व दिया जाता है श्वास की गति से ही हमारी आयु बढती और घटती है
अगर आप श्वास पे नियंत्रण पा लेंगे तो आप सभी पर नियंत्रण पा लेंगे

जब भी किसी प्रकार का विचार आये या ध्यान करते समय मन अस्थिर होकर भटक रहा हो तो तुरंत सोचना बंद करके सजग हो जाये इसे जबरदस्ती ना करे बल्कि सहज योग अपनाये ध्यान करते समय देखने को ही लक्ष्य बनाये और बाद मैं सुनने को

ध्यान करते समय ये याद रखे की बाहर जो ढेर साड़ी आवाज़े है उनमे से एक आवाज़ ऐसी है जिसे आप अच्छे से सुन रहे है ध्यान से से
श्वसन क्रिया पर ध्यान केन्द्रित करने से धीरे धीरे मन और मस्तिष्क सिथिर हो जाता है और ध्यान लगने लगता है

इसके लिए काफी मेहनत करनी पड़ती है लगातार 6-7 दिन करने के बाद आपका ध्यान क्किसी एक चीज़ पर केन्द्रित होगा और धीरे धीरे इसके फायदे दिखने लगेंगे
इसलिए सिर्फ 1-2 दिन करके ही इसे बिच मैं ना छोड़े और रोज 15-20 मिनट के लिए इसे करे

Meditation के फायदे

• दिमाग तेज होता है
• सिरदर्द से छुटकारा मिलता है
• जीवन का उदेश्य समझने मैं मदद मिलती है
• चिंता से छुटकारा मिलता है
• आत्मज्ञान की प्राप्ति होती है

• द्रष्टिकोण सकारात्मक हो जाता है
• भगवान से जुड़ सकते है
• दिमाग को शांत रख सकते है
• ध्यान से आप तनाव मुक्त जीवन जीते है
Spiritual गुरु OSHO के अनुसार अगर आप अपने जीवन को पूर्णता से जीना चाहते है तो ध्यान करे
• आप अपने सभी काम समय पर पूरा करते है

Leave a Reply

Your email address will not be published.