इस चैनल मैं आपको हिन्दू धर्म से संबंधित साधनाएँ ओर लाइफ स्टाइल से अवगत करवाया जाएगा । ओर कुछ प्रोडक्टस जो की साधक के लिए अतिआवस्यक हैं उनको उपलब्ध करवाया जाएगा । ज्ञान की प्यास || तंत्र || मंत्र || आयुर्वेद || हठयोग || राजयोग || ज्ञानयोग || लययोग || वेद || पुराण || उपनीषद || शास्त्र || सभी प्रकार की साधना ===:- पूरा सनातन ज्ञान का एक मात्र स्थान
महाभारत की एक अनसुनी दास्तां

आईये आपको बताते हे आज एक सच्ची और अनसुनी महाभारत की एक दास्तां |

महाभारत की एक अनसुनी दास्तां बात तब की हे जब अर्जुन और भगवान श्री कृष्ण महाभारत युद्ध में थे| उस युद्ध में एक से एक महान … Read the rest

ब्रह्मचर्य की कठिनाइया और विघ्नं

ॐ नमः शिवाय
आज हम बात करणमे जा रहे हे ! ब्रह्मचर्य की कठिनाइया और विघ्नं के बारे में ! गीता में लिखा हे ! विषय और इन्द्रिय सहयोग से जो सुख प्रथम अमृत के सम्मान सुखकर प्रतीत होते हे … Read the rest

मेडिटेशन

मेडिटेशन यानी कि ध्यान पिछले कुछ दशकों में इस ध्यान ने पूरी दुनिया का ध्यान अपनी ओर खींचा है। और आज पूरा विश्व इसके प्रभाव से इतना प्रभावित है कि हर इंसान इसे अपनी डेली रुटीन का हिस्सा बनाना चाहता … Read the rest

कुंडली जागरण 5 – योग के 8 अंग

समाधी तक पहुचने के लिए यम नियमादी के पालन की आवश्यकता होती है | इनके पालन में चुक होने पर न ध्यान होता है और न समाधी लग पाती है |( कुंडली जागरण 5 योग के 8 अंग )

केवल … Read the rest

आर्य समाज के सिद्धांत

आर्य समाज के संस्थापक स्वामी दयानंद सरस्वती आधुनिक भारत के निर्माताओं में से एक थे। स्वदेशी अभिविन्यास के साथ, वह भारत में एक नया सामाजिक, धार्मिक, आर्थिक और राजनीतिक आदेश लाना चाहते थे।( आर्य समाज के सिद्धांत )

वेद से … Read the rest

कुण्डलिनी जागरण 4 योग चतुष्ट्य के सिदान्त

योग तत्व के ज्ञाता महर्षियों ने योग साधन की चार शेलिया बतलाई है ये है – मन्त्रयोग , हठयोग , लययोग व राजयोग | इसी तरह योग के 8 सोपान भी बतलाये है | ये है – यम , नियम … Read the rest

कुण्डलिनी जागरण -3 शरीरस्थ पंचकोश

मनुष्य का शरीर पांच कोशो वाला है | ये पांच कोश है – अन्नमय कोश, प्राणमय कोश, मनोमय कोश , विज्ञानमय कोश तथा आनंदमय कोश | इनका संक्षिप्त विवेचन निम्नानुसार है – ( शरीरस्थ पंचकोश )

अन्नमय कोश –

पञ्च Read the rest

शिव के अस्त्रों का निर्माण

आइंस्टीन से पूर्व शिव ने ही कहा था कि ‘कल्पना’ ज्ञान से ज्यादा महत्वपूर्ण है। हम जैसी कल्पना और विचार करते हैं, वैसे ही हो जाते हैं। शिव ने इस आधार पर ध्यान की कई विधियों का विकास किया। भगवान … Read the rest

तनाव दूर करने के उपाय

तनाव और चिंता ज्यादातर लोगों के लिए सामान्य अनुभव हैं। वास्तव में, संयुक्त राज्य अमेरिका में 70% वयस्कों का कहना है कि वे दैनिक तनाव या चिंता महसूस करते हैं। ( तनाव दूर करने के उपाय )

तनाव और चिंता … Read the rest

सूर्य नमस्कार

सूर्य नमस्कार, सूर्य या सूर्य नमस्कार को सलाम, योग में एक अभ्यास है क्योंकि व्यायाम बारह आसन जुड़े हुए कुछ आसनों के अनुक्रम को शामिल करता है। ( सूर्य नमस्कार )

आसन अनुक्रम की उत्पत्ति भारत में 9 वीं … Read the rest